Sad Shayari

Sad Shayari

har insaan ka dil

हर इंन्सान का दिल बुरा नही होता,
हर एक इन्सान बुरा नही होता,
बुझ जाते है दीये कभी तेल की कमी से,
हर बार कसूर हवा का नही होता।


har innsaan ka dil bura nahee hota,
har ek insaan bura nahee hota,
bujh jaate hai deeye kabhee tel kee kamee se,
har baar kasoor hava ka nahee hota.

आदत बदल सी गई है
वक़्त काटने की…
अब हिम्मत ही नहीं होती
किसी से दर्द बांटने की….।

aadat badal see gaee hai
vaqt kaatane kee…
ab himmat hee nahin hotee
kisee se dard baantane kee….

मैं ही पागल था जो उन्हें अपना समझ बैठा था,
उनके साथ के चंद लम्हों में दुनिया समाए बैठा था,
एक वो ही थे समझदार, जो हमें खिलौना समझ बैठे थे,
हमे तड़पा तड़पा के, उनकी फितरत से वाकिफ करते थे।


main hee paagal tha jo unhen apana samajh baitha tha,
unake saath ke chand lamhon mein duniya samae baitha tha,
ek vo hee the samajhadaar, jo hamen khilauna samajh baithe the,
hame tadapa tadapa ke, unakee phitarat se vaakiph karate the.

tere safar se

यूँ तो ए ज़िन्दगी…तेरे सफर से
शिकायतें बहुत थी,
मगर दर्द जब दर्ज कराने पहुँचे
तो कतारें बहुत थी।


yoon to e zindagee…tere safar se
shikaayaten bahut thee,
magar dard jab darj karaane pahunche
to kataaren bahut thee

यूं तो अब तुझसे कोई वास्ता न रहा मेरा,
पर आज भी तेरे हिस्सा का वक्त मैं तन्हा गुज़ार देती हूं।


yoon to ab tujhase koee vaasta na raha mera,
par aaj bhee tere hissa ka vakt main tanha guzaar detee hoon.

काफी अरसे बाद उसकी जुबां से अपना नाम सुन कर लगा,
शायद वो फिर से आ गई मेरी ज़िन्दगी में,
पर मुझे पता बाद में चला कि
नाम तो उसने मेरा ही लिया था ,पर किसी दूसरे शख्स के लिए।


kaaphee arase baad usakee jubaan se apana naam sun kar laga,
shaayad vo phir se aa gaee meree zindagee mein,
par mujhe pata baad mein chala ki
naam to usane mera hee liya tha ,par kisee doosare shakhs ke liye.

usnko apna bana loo

मैंने सोचा उसको अपना बना लूं
पर वो तो अपना हुआ नहीं
और मैं खुद का रहा नहीं।


mainne socha usako apana bana loon
par vo to apana hua nahin
aur main khud ka raha nahin।

सब्र तहजीब है मोहब्बत की
और तुम समझते हो
कि बेजुबां हैं हम….।


sabr tahajeeb hai mohabbat kee
aur tum samajhate ho
ki bejubaan hain ham…..

चुपके से सामने आ जाते हो तुम,
आंखें खुलते ही गायब हो जाते हो तुम,
मैं तो तुम्हें दिन-रात याद करता रहता हूं,
और यहां पल भर में ही मुझे भूल जाते है तुम।


chupake se saamane aa jaate ho tum,
aankhen khulate hee gaayab ho jaate ho tum,
main to tumhen din-raat yaad karata rahata hoon,
aur yahaan pal bhar mein hee mujhe bhool jaate hai tum

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *