Sad Shayari

Sad Shayari

Mohabbat Ki Kadar

sad shayari

अकसर वही लोग रोते है इस दुनिया में
जो लोग मोहब्बत की कदर करते है


akasar vahi log rote hai is duniya mein
jo log mohabbat ki kadar karte hai

sad shayari

आखिर कैसे मनाये उस सखस को जो
रूठा भी नहीं और बात भी नहीं करता


aakhir kaise manaaye us sakhas ko jo
rootha bhi nahi aur baat bhi nahi karta

shayari sad in hindi

किसी की आदत लगने में वक़्त लगता है
लेकिन उसकी आदत को खतम करने में सारी
उम्र बीत जाती है यार


kisee ki aadat lagane mein waqt lagta hai
lekin usaki aadat ko khatam karne mein saari
umr beet jaati hai yaar

shayari sad in hindi

कुछ लोग अपना बना के छोड़ देते है
अपनों से रिश्ता तोड़ के गैरो से जोड़ लेते है
हम तोह एक फूल ना तोड़ सके नजाने लोग
प्यारा दिल कैसे तोड़ लेते है


kuchh log apna bana ke chhod dete hai
apno se rishta tod ke gairo se jod lete hai
hum toh ek phool na tod sake najaane log
pyara dil kaise tod lete hai

Tumhe Paane Ki Zid

sad shayari

तुम्हे पाने की जिद थी और तुम्हे पाने का सपना
न ही जिद पूरी हुई न ही सपना


tumhe paane ki zid thi aur tumhe paane ka sapna
na hee zid puri hui na hee sapna

sad shayari

दर्द भी दो तरीके के होते है
एक तकलीफ देता है दूसरा आपको बदल देता है


dard bhi do tarike ka hota hai
ek takleeph deta hai doosara aapko badal deta hai

sad shayari

बर्बाद ही करना था ना तो किसी और तरीके से करते
ज़िन्दगी बनकर मेरी , ज़िन्दगी छीन ली मेरी तुमने


barbaad hi karna tha na to kisi aur tarike se karte
zindagi bankar meri , zindagi chheen lee meri tumne

sad shayari

काश तुम समझ सकते मोहब्बत के उसूलो को
किसी के दिल में समाकर उन्हें इस तरह तनहा नहीं करते


kaash tum samajh sakte mohabbat ke usoolo ko
kisi ke dil mein samaakar unhen is tarah tanhha nahi karte

Heart Broken

sad shayari

जो इंसान तुम्हे इतना प्यार करने के बाद भी तुम्हारा
नहीं न हुआ यकीन मनो मेरी बात का वो किसी का भी
नहीं हो सकता


jo insaan tumhe itna pyaar karne ke baad bhi tumhaara
nahi na hua yakeen maano meri baat ka vo kisi ka bhi
nahi ho sakta

sad shayari

अच्छा हुआ की मै गरीब था जो मैंने सिर्फ दिल को चुना
अगर आमिर होता तो नजर सिर्फ उनके हुसन पर होती|


achha hua ki mai gareeb tha jo maine sirf dil ko chuna
agar aamir hota to najar sirf unke husan par hoti

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *